कविताएं Archive

  • वर्ष नूतन हर्ष नूतन, नित्‍य हो उत्‍कर्ष नूतन ।। स्‍वार्थ से परमार्थ पथ पर, फिर करें वो विमर्श नूतन ।। स्‍वास्‍थ्‍य हो, सद् बुद्धि हो और हो सदा उत्‍साह नूतन […]

    नव सम्‍वत की शुभकामनाएं

    वर्ष नूतन हर्ष नूतन, नित्‍य हो उत्‍कर्ष नूतन ।। स्‍वार्थ से परमार्थ पथ पर, फिर करें वो विमर्श नूतन ।। स्‍वास्‍थ्‍य हो, सद् बुद्धि हो और हो सदा उत्‍साह नूतन […]

  • आई दीवाली आई दीवाली, दीप सजे और धूम मची चहुं ओर है ढूंढो-ढूंढो इस प्रकाश में, मन में छिपा जो चोर है। ब्रह्म वही मर्यादा में बंध, राम बना जग […]

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    आई दीवाली आई दीवाली, दीप सजे और धूम मची चहुं ओर है ढूंढो-ढूंढो इस प्रकाश में, मन में छिपा जो चोर है। ब्रह्म वही मर्यादा में बंध, राम बना जग […]