नव सम्‍वत की शुभकामनाएं

वर्ष नूतन हर्ष नूतन, नित्‍य हो उत्‍कर्ष नूतन ।।
स्‍वार्थ से परमार्थ पथ पर, फिर करें वो विमर्श नूतन ।।
स्‍वास्‍थ्‍य हो, सद् बुद्धि हो और हो सदा उत्‍साह नूतन ।
लक्ष्‍य प्रति जीवन समर्पित, फिर भरें वो प्रवाह नूतन ।।
गुरु शरण में प्रबल तप और वेग बल वैराग्‍य नूतन ।
साधना के पांव चलकर, मन सहित हो तन भी नूतन ।।
जग छलावा चक्र गति, एक आत्‍मा है सदैव नूतन ।
तथ्‍य यह पहचान कर हो योग युक्ति तथैव नूतन ।।
कर रहे शुभकामना नववर्ष में नित हर्ष नूतन ।
स्‍वार्थ से परमार्थ पथ पर, मिल करें वो विमर्श नूतन ।।

स्‍वामी सूर्येन्‍दु पुरी